तू जग की अवधूत गरिमा।
तू नील कंठ, तू श्वेत पद्म,
तू ही शक्ति, तू ही दिव्य स्वप्न।

वीरों के शौर्य से जगमगाया,
आजादी का सपना हम सबने पाया।

कई चुनौतियों का सामना किया,
संघर्षों में भारतीय जनता ने खुद को प्रमाणित किया।
कर्मभूमि में खींच ली थी छाया,
पर नेतृत्व से लहराया तुफान।
भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु ने अपना बलिदान दिया,

स्वतंत्रता के लिए उन्होंने अपनी जान गवाई।
राष्ट्र की आवश्यकता से ऊंची उड़ान भरी,

नेताओं ने नेतृत्व का संकल्प निभाया।
आज भारत स्वतंत्र है,
उसका गर्व है हमें,
वीर रस की इस कविता में उनकी महिमा गाया है हमने।

स्वतंत्रता दिवस पर वीर रस की कविता

अब तक जिसका खून न खौला,
वो खून नहीं वो पानी है।
जो देश के काम ना आये,
वो बेकार जवानी है।

ऐ मेरे वतन के लोगों,
ज़रा आँख में भर लो पानी।
जो शहीद हुए हैं उनकी,
ज़रा याद करो कुर्बानी।

जो कर गये वतन पर,
मर मिटने का कर्तव्य।
सुर्ख़ शोहरत की माला,
वो बिना मातृभाषा के बने।

वीर रस का है जो मधुर,
सब रसों से माता है।
उस रस के पीछे वीरता,
जिसमें बच्चा बच्चा वीर है।

जो देख लिया उसने मौत को,
खो गया उसका डर।
वो ना जाने कौन है वीर,
जो कहता है “मुझे डर नहीं”।

वीरता की खान सबसे महान,
वीर रस का है आदान प्रदान।
स्वतंत्रता की राह में,
वीरों की श्रद्धा और भक्ति है।

जय हिन्द! जय भारत!

स्वतंत्रता दिवस पर वीर रस की कविता:

वीरों की अद्भुत कहानी,
बहती है यह लहराती हवाएं।
खुदा की ख़ास मोहब्बत है,
इस धरती पर जन्मी महान वीराएं।

देश की आज़ादी के लिए खड़ी,
कई वीर ने किया अपना बलिदान।
उनकी आत्मा बस जाती है हर दिल में,
उनकी बत्ती आज भी जलती है यहाँ।

दिल में जगाते हैं वीरों की यादें,
उनके बलिदान की कहानियाँ।
जो भूली नहीं देशभक्ति की आग,
वो हैं हमारे दिलों की पहचानियाँ।

खड़े हो जाते हैं वीर जब देश के लिए,
न डरते हैं मौत से, न घबराते।
उनका जीवन है सत्य, उनकी मृत्यु अमर,
वीरों की कविता फिर भी सुनती यह धरती।

स्वतंत्रता की महान लड़ाई में,
थी वीरों की आत्मा उत्साहित।
उन्होंने दिखाया वीरगति का मार्ग,
उनकी कविता आज भी हमारे दिलों में बसी है।

स्वतंत्रता दिवस पर वीर रस की कविता (भाग 2):

वीर वीरांगनाओं की कहानियों में,
छुपी है उनकी बहादुरी की कहानियाँ।
जो अपने बच्चों के लिए खेलती रही,
ख़तरों से भरपूर उनकी जीवनी यात्राएँ।

वीर भगत सिंह की आवाज़ में,
गूंजती है देशभक्ति की धारा।
उनकी कविताएँ सदैव प्रेरणा देती,
जवानों को उनकी वीरता की प्रतिमा।

चंद्रशेखर आजाद की यात्रा वीरता से भरी,
उनका संघर्ष था अद्वितीय और निरंतर।
देश की आज़ादी के लिए उन्होंने दिया अपना सब,
उनकी कविताएँ भी हमें दिखाती हैं उनके उत्साह की प्रतिमा।

वीरता की दास्तानें हमें याद दिलाती हैं,
कि देश के लिए कुछ भी संभव है।
वीरों की आत्मा हमें महसूस होती है,
जब भी हम पढ़ते हैं उनकी कविताएँ सुनते हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर वीर रस को याद करते हैं,
वीरों के बलिदान को सलाम करते हैं।
उनकी कविताओं में छुपी है उनकी वीरता,
जो दिलों में बसी है और हमें बनाती है महान।

Independence Day Poem in Hindi

आज़ादी की राहों में बहती रही खूनी नदियाँ,
वीरों की बहादुरी ने की विश्वासनीय गवाहियाँ।
देश की अद्भुत सफलता के पीछे है वीरों का बलिदान,
उनके साहस ने किया देश का मान बढ़ान।

राष्ट्र की स्वतंत्रता के लिए संकल्पित थे वीर,
कुछ ने दिया अपने जीवन, कुछ ने किया अपना बलिदान।
वीर रस की कविता में बसी है उनकी आत्मा,
उनकी शौर्य गाथाएँ हमें मिलाती हैं प्रेरणा।

वीरता की कहानी है अद्वितीय और अमर,
उनके बलिदान ने दिलाई देश को शांति और स्वतंत्रता की ख़बर।
स्वतंत्रता दिवस पर उन्हें याद करते हैं हम,
उनकी महान शौर्य कहानी से होते हैं हम संतुष्ट।

वीर रस की कविता से होता है सच्चा सम्मान,
उनकी बहादुरी को याद कर, होता है देश पर गर्व आनंद।
स्वतंत्रता के पथ में चलते रहे वीरों की महिमा,
उनके बलिदान से हो जाए देश महान।

15 August 2023 देशभक्ति की कविता:

वीरों की कहानियाँ याद दिलाती,
देशभक्ति की राह में हमें जोड़ती।
स्वतंत्रता के पर्व पर हम गर्व महसूस करें,
उन शूरवीरों की यादों को दिल में बसाते हैं हम।

वीर राजपूत और चाणक्य की बातों से सिखते हैं,
अपने देश की सुरक्षा के लिए कैसे लड़ते हैं।
गांधी जी की सत्याग्रह से प्रेरित होकर,
हम भी अपने अधिकारों की रक्षा करते हैं।

देशभक्ति की भावना हमारे दिल में बसी है,
हर कठिनाईयों का सामना हम कर सकते हैं।
जो भी आवश्यक हो देश के लिए, हम तैयार हैं,
देशभक्ति की मिठास को खुद में बसाते हैं हम।

स्वतंत्रता दिवस पर हर दिल में उत्सव है,
वीरों के बलिदान को हम सदा याद रखते हैं।
देशभक्ति की कविता गूँजती रहे हमारे दिलों में,
देश के विकास में हर कदम प्रगति की ओर बढ़ते हम।

देशभक्ति की कविता:

स्वतंत्रता के महान सपने लेकर,
हम आगे बढ़ते हैं, मन में तूफाने लेकर।
वीरों की वीरता से भरी है यह धरा,
हम भी देशभक्ति के पथ पर आगे बढ़ते हैं हर दिन नया कदम बढ़ाकर।

अपने देश की तरक्की के लिए हम संकल्पित हैं,
वीरों की तरह हम भी बलिदानों को जीवन में पाते हैं।
देशभक्ति की कविता हमें यह सिखाती है,
कि बड़े-बड़े संकटों का सामना भी हम कर सकते हैं वीरता से।

गांधी जी की अहिंसा के मार्ग से चलते,
भारतीयता के मूल सिद्धांतों को आगे बढ़ते।
हम वीर भारतीयों के गर्व को बढ़ाते,
देशभक्ति की कविता से हम यह संदेश सुनाते।

देश की स्वतंत्रता के लिए लड़े अनगिन शूरवीर,
हम उनकी महानता को सदा याद रखते हैं यहाँ।
स्वतंत्रता दिवस पर हम उन्हें समर्पित हैं,
उनकी देशभक्ति की कविता गूँजते हमारे दिलों में निरंतर।

स्वतंत्रता दिवस देशभक्ति की कविता: 4

आओ, उठाएं देशभक्ति के प्रति स्वर,
स्वतंत्रता दिवस पर दिलों में उत्साह भर।
कुर्बानियों की यादों को जीवंत रखें,
उनका बलिदान नहीं होने दें हम भूलें।

राष्ट्रीय गीतों की मधुर ध्वनि सुन,
देश के समृद्धि के पथ पर बढ़ते जान।
स्वतंत्रता के लिए जो लड़े अनमोल वीर,
उनकी महानता को याद कर उनका सम्मान।

नायिकाओं की कथाएँ सुनकर जागृत हो,
वीरांगनाओं के बलिदान की कहानियाँ जान।
आज़ादी के संग्राम में जिनका महत्वपूर्ण योगदान,
उनकी महिमा को गाते हुए निकले हम जान-जान।

देशभक्ति का आदर करें, उन्हें सलाम करें,
स्वतंत्रता के सपने को हम साकार करें।
आओ, मिलकर एक संकल्प लें,
देश की सुरक्षा और समृद्धि में योगदान दें।

स्वतंत्रता दिवस पर यह संकल्प लें,
देशभक्ति के रंग में हम सब रंगें।
जय हिंद, जय भारत!

देशभक्ति की कविता:-5

वीरों की चरणों में हम जुकते हैं समर्पित,
उनके त्याग और बलिदान से हम बल प्राप्त करते हैं।
आजादी के लिए उन्होंने लिया था संकल्प,
देशभक्ति की भावना आज भी हमारे मन में गहरी है।

स्वतंत्रता के महान संघर्ष में शामिल होकर,
वीरों ने दिखाई अपनी अद्वितीय वीरता।
उनके सपूतों को हमेशा याद रहेगा उनका संघर्ष,
उनकी कविता आज भी हमारे दिलों में बसी है।

देश के वीरों ने दिखाया विश्व में महानता का परिचय,
उनकी तपस्या और संकल्प ने किया देश का गर्व बढ़ाया।
स्वतंत्रता दिवस पर हम उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं,
उनकी कविता से उनकी बहादुरी को हम सदा याद रखते हैं।

देशभक्ति की कविता के सभी पंक्तियाँ,
हमें याद दिलाती हैं वीरों की महानीयता की कहानियाँ।
स्वतंत्रता के पर्व पर हम सभी मिलकर गाते हैं,
उन शूरवीरों की यादों को हम दिल में बसाते हैं।

Independence Day Poem in Hindi: देशभक्ति की कविता: 6

वीरों की कहानियाँ हमें याद दिलाती,
कैसे उन्होंने दिया देश के लिए अपना सब कुछ गवाती।
राष्ट्रपिता गांधी की सत्याग्रह से लड़ी,
देशभक्ति की मिसालें हमारे दिल में बसी हैं।

तिरंगे की शान और गरिमा हमें याद दिलाती,
वीर शहीदों के बलिदान की कहानियाँ सुनाती।
हर दिल में धड़कता देशप्रेम का जोश,
देशभक्ति की कविता में होता है अमर संवाद।

जवानों की बलिदानी और वीरों की चर्चा,
दिलों में बच्चों को भी जगाती है देशभक्ति की भावना।
स्वतंत्रता के दिवस पर यह आवश्यक है,
कि हम अपने देश के बलिदानी वीरों को समर्पित रहें।

देशभक्ति की रौशनी से जगमगाता यह आकाश,
वीरों के सपूतों का यह गर्वनिलय आवास।
स्वतंत्रता के पर्व पर हम यह सत्य मानते हैं,
कि देशभक्ति ही हमारी शक्ति है, देश की पहचान।

देशभक्ति की कविता-6 : Independence Day Poem in Hindi

जब तन दुखाने लगे, दुर्भाग्य की हो बात,
तब भी वीरों की यादें हों आसरा हमारे साथ।
राष्ट्रीय गानों की ध्वनि जब गूँजे आकाश में,
दिल में बसे हो देशभक्ति के गीत, हर दर्द को कर देते शांत।

वीर सावरकर और भगत सिंह की मानवता की सद्गति के लिए लड़ाई,
उनके बलिदान ने बदला देश का भविष्य और भविष्यवाणी।
देश की स्वतंत्रता के लिए जो कुछ भी कर सकते हैं हम,
उन्हीं के प्रेरणास्त्रोत से उठते हैं हमारे देशभक्ति के ध्वज।

शहीदों की आत्मा हमारे साथ होती हर घड़ी,
उनकी बलिदानी जीवन की कथाएँ होती हमें प्रेरित।
देशभक्ति की कविता गाते समय दिल में उत्साह उमड़ता है,
हम उनके संघर्षों को समझते हैं और उनके बलिदान को नमन करते हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर हम याद करते हैं उन बहादुरों को,
जिन्होंने देश के लिए किया बलिदान बिना चिंता के।
उनकी कविता सदा हमारे हृदय में बसी रहे,
और हम सब मिलकर देश को सशक्त, समृद्ध और अखण्ड बनाएं।

देशभक्ति की कविता-7 : Independence Day Poem in Hindi

वीरों की कथाएं हमें यह सिखाती हैं,
देश के लिए कुछ करना है वो सच्ची मानवता।
जो अपने को नहीं, देश को समर्पित कर देते हैं,
उनकी महानता पर हम गर्व से लाखों खुदाई करते हैं।

देशभक्ति का आदर आज भी हमको सिखाता है,
वीरों के बलिदान की राह पर चलने को उत्सुक करता है।
ना दिल में खलल पाने की हो मनाही,
देश प्रेम के उत्साह से हम जीवन को सजाते हैं।

वीर भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद की कहानियां,
हमें यह यकीन दिलाती हैं कि अखंड राष्ट्र की खानी हैं।
उनकी बलिदानी जीवन ने बताया,
कि स्वतंत्रता से अधिक कुछ नहीं प्रिय हमारे दिल को।

देशभक्ति की राह में चलकर बच्चों को हम दिखाएं,
वीरों की महानता को, उनकी बलिदानी भावना को समझाएं।
स्वतंत्रता दिवस पर यह संकल्प लें,
देश की शान और समृद्धि के लिए हम हर कदम में बढ़ते जाएं।

By Puneet Singh

Hello, friend! I’m Puneet Singh Tandi Gurera, the proud founder of CNSTrack. I welcome you to our dedicated space where we explore the world of blogging and offer comprehensive logistics solutions.